पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 5

हेलो दोस्तो मे गौरव कुमार हाज़िर हू स्टोरी का अगला पार्ट लेकर। पिछ्ले पार्ट मे आपने पढ़ा के केसे भूरा सरबी के करीब आने के लिये सुखा से दोस्ती करता है। वही दुसरी तरफ रितु बातो बातो मे सरबी से सब कुच जान लेती है और उसे पराये मर्द के साथ सोने के लिये मना … Continue reading पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 5

पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 4

हेल्लो दोस्तो मे गौरव कुमार स्टोरी का अगला पार्ट लेके हाज़िर हूँ। पिछले पार्ट मे आपने पढ़ा के सुखा और सरबी शहर आकर रहने लग जाते है और बनवारी लाला उन्हे अपने यहा नौकरी पर रख लेता है। तो चलिये स्टोरी को अब आगे बढ़ाते है। सुखा और सरबी शहर मे आ ग्ये थे, उन्होने … Continue reading पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 4

माय फक डायरी – 3

सुबह जब मैं उठा तो शिल्पी नहीं थी.. वो मॉर्निंग में जॉगिंग करने जाती है.. इसीलिए मैं फिर सो गया.. थोड़ी देर बाद शिल्पी आयी और मुझे उठाने लगी.. शिल्पी: भैया उठो.. बहुत देर हो गयी.. शिल्पी ने जॉगिंग ऑउटफिट पहने हुए थे.. उसका पूरा बदन पसीने से भींग चूका था.. 38-30-40 का उसका भरा … Continue reading माय फक डायरी – 3

प्रीती की चूत

हेलो दोस्तो मे अस्लमखान आज आपके लिये अपने सकूल टाईम की दोस्त प्रीती की कहानी लेके आया हू। मे और प्रीती पांचवी क्लास से दोस्त थे लेकिन तब तक मेरे मनमे उसके लिये कभी भी कोई गलत विचार नही आया था। लेकिन 10वी क्लास तक आते आते उसका जिस्म उबरने लगा था जिसे मे बहुत … Continue reading प्रीती की चूत

पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 3

हेलो दोस्तो मे गौरव कुमार फिर से हाज़िर हूँ कहानी का अगला पार्ट लेकर। दुसरे पार्ट मे आपने पढ़ा के केसे रितु लाला के साथ सरबी को उसके बिस्तर पर लाने का वादा करती है। तो चलिये कहानी को आगे बढ़ातेहै। शाम होते सरबी घर पहुंच चुकी थी ओर सुखा भी उस्के इन्तज़ार मे बेठा … Continue reading पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 3

पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 2

दोस्तो मे गौरव कहानी का दुसरा पार्ट लेकर आपके सामने हाज़िर हू, उम्मीद करता हू के पहला पार्ट अपको पसंद आया होगा। तो चलिये कहानी को आगे बढ़ाता हू, यहा सरबी लाले की दुकान से चली जातीहै। सरबी के जाने के बाद लाला फिर से बही खाते मे फसलो का जोड तोड करने लगा। अभी … Continue reading पंजाब दियां रंगीन जट्टीयां – पार्ट – 2